हमास के आगे इजरायल के छूट रहे पसीने, गाजा पर आक्रमण कर क्या फंस गए हैं नेतन्याहू

 

तेल अवीव: गाजा पट्टी में हमास के खिलाफ इजरायली सैन्य अभियान अब भी जारी है। लेकिन, अब तक यह स्पष्ट नहीं है कि इजरायली सेना ने हमास को खत्म करने में कितनी प्रगति की है। इजरायल ने इस महत्वकांक्षी लक्ष्य को 7 अक्टूबर को हमास के हमले के तुरंत बाद तय किया था। इसके तहत ही सबसे पहले इजरायल ने गाजा पट्टी पर हवाई हमला शुरू किया और उसके कुछ हफ्ते बाद जमीनी कार्रवाई को अंजाम दिया। इजरायली अधिकारियों के अनुसार, हमास के हमले में 1200 नागरिक मारे गए और उसी दिन हमास ने 251 लोगों का अपहरण कर लिया। अब तक इन बंधकों में से 114 को रिहा कर दिया गया है, जिसमें से कुछ विदेशी नागरिक भी हैं। बाकी लोग गाजा में ही कैद हैं और इजरायली सरकार उनकी रिहाई सुनिश्चित कराने का वादा कर रही है।

18000 से अधिक फिलिस्तीनियों की मौत

गाजा पट्टी में हमास के नियंत्रण वाले स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, गाजा पर इजरायल की जवाबी कार्रवाई के कारण 18,000 से अधिक फिलिस्तीनी मारे गए हैं, जबकि 50,000 अन्य घायल हुए हैं। इस युद्ध को शुरू हुए दो महीने से अधिक का समय बीच चुका है। ऐसे में इजरायल पर युद्ध को समाप्त करने के लिए अंतरराष्ट्रीय दबाव भी बढ़ रहा है। पिछले हफ्ते ही अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के उस प्रस्ताव को वीटो कर दिया जिसमें तत्काल युद्धविराम का आह्वान किया गया था। बाइडन प्रशासन का दो टूक कहना है कि इजरायल ही युद्ध के अंत का निर्धारण करेगा।

युद्ध के लक्ष्य से काफी दूर है इजरायली सेना

इजरायली सेना का आक्रमण अब समय के खिलाफ दौड़ रहा है। इजरायल ने आक्रमण से पहले तय किया था कि वह हमास को गाजा पट्टी से पूरी तरह से मिटा देगा। इसके अलावा, हमास को उसकी सैन्य क्षमताओं से पूरी तरह से दूर कर दिया जाएगा। इजरायल का अगर यह मकसद पूरा नहीं होता है तो उसकी साख के अलावा सैन्य क्षमता पर भी गंभीर सवाल उठेगा। मोशे दयान सेंटर फॉर मिडिल ईस्टर्न एंड अफ्रीकन स्टडीज में फिलिस्तीनी स्टडीज फोरम के प्रमुख डॉ माइकल मिलस्टीन ने कहा कि हमने व्यापक क्षति देखी है। लेकिन इजरायल अभी भी हमास को उखाड़ फेंकने से बहुत दूर है। इसके अधिकांश लड़ाके अभी भी जीवित हैं; इसके पास अभी भी रॉकेट हैं।

हमास के लिए प्रतिरोध, शासन से अधिक महत्वपूर्ण

इसके अलावा, मिलस्टीन ने द मीडिया लाइन को बताया कि संसद, अदालतों और मस्जिदों जैसे सरकारी प्रतीकों पर बमबारी काफी हद तक प्रतीकात्मक कारणों से हो रही है। उन्होंने कहा, “हमास को अपनी लड़ाई जारी रखने के लिए इसकी जरूरत नहीं है। हमास के लिए, प्रतिरोध शासन से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है। जब तक उसके पास हथियार और लड़ाके हैं, उसे इसकी परवाह नहीं है कि वह गाजा पर शासन कर सकता है या मानवीय सहायता दे सकता है।” यह 7 अक्टूबर को पहले ही साबित हो चुका है, जब इजरायली सेना से जुड़े रणनीतिकारों ने सोचा था कि हमास गाजा पट्टी पर अपनी संप्रभुता को मजबूत करने की सोच रखता है और वह इसलिए इजरायल पर हमले का जोखिम नहीं उठाएगा, जो उसके शासन को खतरे में डाल देगा।

गाजा से 19 लाख लोग विस्थापित

मंगलवार को भी गाजा पट्टी में लड़ाई जारी रही। गाजा पट्टी लगभग 26 मील (41 किलोमीटर) लंबा और 3 से 8 मील चौड़ा एक घनी आबादी वाला इलाका है। संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, लड़ाई के परिणामस्वरूप लगभग 19 लाख गाजा निवासी विस्थापित हो गए हैं, जो इसकी 20 से अधिक आबादी का लगभग 85% है। इजरायली शहर, गांव और किबुत्ज़िम गाजा पट्टी की उत्तरी और पूर्वी सीमाओं को घेरे हुए हैं – जिनकी कुल लंबाई लगभग 36 मील है – जिसे अक्सर इज़रायली “गाजा लिफाफा” कहा जाता है। इस पट्टी की मिस्र के साथ 8 मील लंबी सीमा और 25 मील भूमध्यसागरीय तटरेखा भी है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Source link

Visits: 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!