PM मोदी ने दुनिया के सबसे बड़े ध्यान केंद्र का किया उद्घाटन…20 हजार लोग कर सकेंगे एक साथ ध्यान

 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज वाराणसी में दुनिया के सबसे बड़े ध्यान केंद्र स्वर्वेद महामंदिर का उद्घाटन किया. उद्घाटन के बाद, प्रधानमंत्री ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ इस केंद्र का दौरा किया. यहां 20,000 से अधिक लोग एक साथ बैठकर ध्यान कर सकते हैं. सात मंजिला इस भव्य महामंदिर की दीवारों पर स्वर्वेद के छंद उकेरे गए हैं. स्वर्वेद महामंदिर प्राचीन दर्शन, आध्यात्मिकता और आधुनिक वास्तुकला का एक मिलाजुला रूप है.

प्रधानमंत्री ने कहा किसंतो के सानिध्य में काशी के लोगों ने मिलकर विकास और नवनिर्माण के नए कीर्तिमान गढ़े हैं और सरकार, समाज और संतगण सब साथ मिलकर काशी के कायाकल्प के लिए कार्य कर रहे हैं. प्रधानमंत्री ने महर्षि सदाफल देव जी को भी याद किया. प्रधानमंत्री ने कहा कि वाराणसी का यह महामंदिर सदाफल देव जी की शिक्षाओं और उनके उपदेशों ही का प्रतीक है.

प्रधानमंत्री ने किसी मुगल या अंग्रजी शासक का नाम तो नहीं लिया लेकिन यह कहा कि गुलामी के कालखंड में जिन अत्याचारियों ने भारत को कमजोर करने का प्रयास किया, उन्होंने सबसे पहले भारत के प्रतीकों को ही निशाना बनाया. प्रधानमंत्री ने कहा कि आजादी के बाद इन सांस्कृतिक प्रतीकों का पुनर्निर्माण आवश्यक था लेकिन दुर्भाग्य से ऐसा नहीं हुआ.

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारा देश अपनी विरासत पर गर्व करना भूल गया था और इसी देश में सोमनाथ मंदिर के पुनर्निमाण का विरोध तक किया गया. प्रधानमंत्री ने कहा कि लेकिन अब समय बदल गया है और अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण लगभग पूरा हो गया है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि आजादी के 7 दशक बाद आज समय का चक्र एक बार फिर घुमा है और देश अब लाल किले से गुलामी की मानसिकता से मुक्ति और अपनी विरासत पर गर्व की घोषणा कर रहा है. प्रधानमंत्री ने सोमनाथ मंदिर का जिक्र करते हुए कहा कि जो काम सोमनाथ से शुरू हुआ था, वो अब एक अभियान बन गया है.

 

 

 

 

 

 

Source link

Visits: 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!