CUET UG 2024 में किए गए कई बड़े बदलाव, अब सिर्फ 6 विषयों को चुनने का मिलेगा विकल्प, जानें पूरी डिटेल

 

राष्ट्रीष परीक्षा एजेंसी की ओर से जल्द ही सीयूईटी यूजी 2024 के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू की जाएगी. कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट-अंडरग्रेजुएट 2024 (CUET UG 2024) में कई बदलाव भी किए गए हैं. परीक्षा का आयोजन हाइब्रिड मोड में किया जाएगा, जिससे की ग्रामीण क्षेत्र के कैंडिडेट को घर के करीब परीक्षा देने की सुविधा मिल सके. परीक्षा हर दिन तीन पालियों में होगी. सीयूईटी यूजी 2024 के लिए आवेदन प्रक्रिया 19 फरवरी तक शुरू होने की संभावना है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार एनटीए और यूजीसी के वरिष्ठ अधिकारियों के मुताबित इस बार सीयूईटी यूजी में कई बदलाव होंगे. परीक्षा का आयोजन देश भरप में 15 से 31 मई के बीच किया जाएगा. पिछले साल 28 लाख अभ्यर्थियों ने सीयूईटी यूजी के लिए रजिस्ट्रेशन किया था, जिनमें यूपी के कैंडिडेट की संख्या सबसे अधिक थी.

OMR शीट पर होगी परीक्षा

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार यूजीसी अध्यक्ष एम जगदीश कुमार ने कहा कि उच्च पंजीकरण वाले विषयों के लिए परीक्षा कंप्यूटर आधारित टेस्ट (सीबीटी) प्रारूप के बजाय ओएमआर शीट का उपयोग करके आयोजित की जाएगी. जिन विषयों में रजिस्ट्रेशन अधिक होगा, उनकी परीक्षा बहुविकल्पीय प्रारूप में ओएमआर शीट पर होगी. उन्होंने कहा कि हम कई स्कूलों, कॉलेजों और शैक्षणिक संस्थानों को परीक्षा हॉल के रूप में उपयोग करेंगे, इससे ग्रामीण और दूर-दराज के इलाकों के कैंडिडेट को फायदा होगा.

कितने शिफ्ट में होगी परीक्षा?

परीक्षा प्रत्येक दिन तीन पालियों में आयोजित की जाएगी. सुबह 9 बजे से 11 बजे तक, दोपहर 12.30 बजे से दोपहर 2 बजे तक और शाम 4 बजे से शाम 5.30 बजे तक. यूसीजी अध्यक्ष के अनुसार हाइब्रिड मोड से परीक्षा के दिनों की संख्या भी कम हो जाएगी.

अब 10 नहीं सिर्फ 6 विषय चुन सकेंगे छात्र

एक उम्मीदवार द्वारा चुने जा सकने वाले विषयों की संख्या 10 से घटाकर 6 कर दी जाएगी. कुमार के अनुसार, एनटीए के आंकड़ों से पता चला है कि बहुत से छात्र सभी 10 विषय विकल्पों को नहीं चुन रहे थे. बड़ी संख्या में विकल्प होने के कारण कुछ छात्रों के लिए परीक्षा केंद्र आवंटित करने में तकनीकी दिक्कतें भी आ रही थीं. उन्होंने कहा कि आंकड़ों से पता चलता है कि अधिकांश छात्र केवल 4 या 5 पेपर दे रहे थे. इस बार CUET UG में हम छात्रों को केवल 6 टेस्ट पेपर देने की अनुमति देंगे, जिसमें तीन डोमेन विषय, दो भाषाएं और सामान्य परीक्षा शामिल होगी.

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Source link

Visits: 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!