Maharajganj News: 7.95 करोड़ से महराजगंज में बनेगा पूर्वांचल का पहला Common Facility Center

 

महराजगंज। एक जिला एक उत्पाद में शामिल महराजगंज फर्नीचर उद्योग को जल्द ही कॉमन फैसिलिटी सेंटर (Common Facility Center) (सीएफसी) का तोहफा मिलने वाला है। यह पूर्वांचल का पहला सीएफसी होगा। 7.95 करोड़ रुपए की लागत से बननेवाले इस सेंटर के लिए जमीन चिह्नित करने की कार्रवाई शुरू हो गई। सीएफसी में लकड़ी को सुरक्षित रखने, कटाई, कंप्यूटरीकृत डिजाइन, रंगाई आदि की सुविधा एक ही छत के नीचे मिलेगी।

उद्योग एवं उद्यम प्रोत्साहन विभाग की एक जनपद-एक उत्पाद (लकड़ी फर्नीचर) के अंतर्गत सामान्य सुविधा केंद्र प्रोत्साहन योजना की राज्य स्तरीय स्क्रीनिंग समिति की बीते दिनों बैठक हुई थी। इसमें महराजगंज जनपद की एसपीवी महराजगंज ग्रेट वुड फाउंडेशन की ओर से 7.95 करोड़ की ओडीओपी (लकड़ी फर्नीचर) सामान्य सुविधा केंद्र की स्थापना की परियोजना के लिए सहमति दी गई। सीएफसी की स्थापना से जनपद में लकड़ी फर्नीचर उद्योग से जुड़े उद्यमियों का उत्थान होगा। लकड़ी फर्नीचर से संबंधित उत्पाद का निर्यात भी किया जा सकेगा।

डिजाइनिंग सेंटर की स्थापना होगी

ओडीओपी सामान्य सुविधा केंद्र रामपुरवा बल्डीहा, परतावल, महराजगंज में लगाने की योजना है। इस ओडीओपी सामान्य सुविधा केंद्र में वुड सीजनिंग एवं ट्रीटमेंट प्लांट, प्रोसेसिंग प्लांट (सीएनसी राउटर, सीएनसी बोरिंग, पैनल सॉ, हाइड्रोलिक प्रेस, एयर कंप्रेसर) के अलावा डिजाइनिंग सेंटर की स्थापना राज्य सरकार के सहयोग से की जाएगी।

उपायुक्त उद्योग अभिषेक प्रियदर्शी ने बताया कि सीएफसी के लिए 18 जनवरी 2024 को जिला स्तरीय समिति की ओर से प्रस्ताव अनुमोदित कर राज्यस्तरीय समिति को भेजा गया था, जिसे समिति ने संस्तुति दे दी है। चिह्नित भूमि की रजिस्ट्री एसपीवी के नाम करवाते हुए जल्द नक्शा पास करवाकर डीपीआर वित्तीय स्वीकृति के लिए शासन को भेज दी जाएगी। अगले माह तक सीएफसी के लिए बजट का आवंटन हो जाने की उम्मीद है।

काॅमन फैसिलिटी सेंटर में यह मिलेगी सुविधा

सीजनिंग : निर्धारित दर पर लकड़ी को सुखाया जाता है। बोरिक ऑक्साइड से उपचारित किया जाता है, ताकि लकड़ी को कीड़ों से बचाया जा सके।

प्रोसेसिंग : लकड़ी की विभिन्न आकार और आकृति में मशीन से कटाई की जाती है।

डिजाइन सेंटर : कंप्यूटर से डिजाइन और लकड़ी की उस डिजाइन में कटाई।

रंग उपचारण संयत्र : फर्नीचर और लकड़ी के अन्य शिल्प के अनुकूल रंगाई।

 

 

 

 

 

 

 

Source link

Visits: 10

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!