भारत में 65 फीसदी तक बढ़ गए XBB variant के मामले, एक्सपर्ट्स ने लोगों को किया अलर्ट

Covid cases in india: दुनिया के कई देशों में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. चीन, जापान और अमेरिका में नए मामलों में इजाफा जारी है. इस बीच भारत भी अलर्ट मोड पर है. देश में फिलहाल कोविड से स्थिति नियंत्रण में है. किसी भी राज्य में कोरोना के ग्राफ में वृद्धि नहीं हो रही है, हालांकि देश में ओमिक्रॉन के एक्सबीबी वेरिएंट के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. XBB वेरिएंट के मामलों में 65 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई है. उत्तर भारत के राज्यों में ये वेरिएंट ज्यादा पाया जा रहा है.

एक्सपर्ट्स का कहना है कि इस वेरिएंट के बढ़ते मामलों को देखते हुए सतर्क रहने की जरूरत है. भले ही देश में कोरोना काबू में है, लेकिन वेरिएंट की वजह से केस बढ़ने का खतरा बना हुआ है. ऐसे में लोगों को कोविड को लेकर लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए. NTAGI चीफ डॉ एनके अरोड़ा ने कहा कि कोरोना के एक्सबीबी वेरिएंट के मामलों में तेजी दिख रही है. नवंबर तक इस वेरिएंट के तीन चौथाई मामले ही थे जो अब बढ़कर 65 फीसदी हो गए है.

डॉ अरोड़ा का कहना है कि अलग-अलग समय में कोई दूसरा वेरिएंट डोमिनेंट होता है, फिलहाल एक्सबीबी ज्यादा स्प्रेड हो रहा है. इसको देखते हुए सतर्क रहने की जरूरत है. वायरस की रोकथाम के लिए सरकार लगातार कदम भी उठा रही है. इसके लिए मॉक ड्रिल कराई जा रही है. अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की टेस्टिंग भी हो रही है. वायरस के किसी भी खतरे से निपटने के लिए सभी इंतजाम किए जा रहे हैं, हालांकि भारत में चिंता की कोई बात नहीं है. यहां कोविड से किसी खतरनाक लहर आने की आशंका नहीं है. अगर किसी कारण केस बढ़ते भी हैं तो हॉस्पिटलाइजेशन और मौतों के मामले में इजाफा होने की आशंका नहीं है.

ये भी पढ़े-  Makar Sankranti 2023: मकर संक्रांति पर क्यों खाते हैं दही चूड़ा? इसके नियमित सेवन से कब्ज होगा दूर, आयरन मिलेगा भरपूर

वायरस में म्यूटेशन होता रहता है

महामारी विशेषज्ञ डॉ. अंशुमान कुमार का कहना है कि कोरोना वायरस खुद को जिंदा रखने के लिए म्यूटेशन करता रहता है. इसी वजह से ओमिक्रॉन के अलग-अलग सब वेरिएंट सामने आ रहे हैं, लेकिन इनमें से कोई भी वेरिएंट खतरनाक नहीं है. भारत में पिछले एक साल से ओमिक्रॉन वेरिएंट और इसके कई सब वेरिएंट मौजूद हैं, लेकिन यहां कोई खतरा नहीं देखा गया है. उम्मीद है भारत में आने वाले दिनों में भी कोविड काबू में ही रहेगा, लेकिन ये जरूर है कि लोग सावधानी बरतें. जिन लोगों ने बूस्टर डोज नहीं ली है वे इससे टीकाकरण करा लें. बुजुर्ग और पुरानी बीमारी से पीड़ित मरीजों को इस बात का विशेष ध्यान रखना है.

 

 

 

 

 

 

Source link

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: