केजीवीबी के ग्रुप में फोटो भेजने से ही स्टाफ की मानी जाएगी उपस्थिति-बीएसए आशीष कुमार सिंह

चंद्रभान राज की रिपोर्ट-

महराजगंज : बीएसए आशीष कुमार सिंह ने कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय परतावल में केजीवीबी की योजनाओं की समीक्षा की। इस दौरान प्रेरणा अपग्रेडेड पोर्टल पर शिक्षिकाओं के साथ-साथ कर्मियों व छात्राओं की उपस्थिति को अपलोड नहीं करने पर नाराजगी जताया। प्रेरणा पोर्टल पर आनलाइन उपस्थति अपलोड करने का निर्देश दिया। बीएसए ने सभी कस्तूरबा विद्यालय के वार्डन को निर्देश दिया कि वह हर दिन स्टाफ की उपस्थिति केजीवीबी के ग्रुप में भेजना सुनिश्चित करें। फोटो नहीं भेजने पर स्टाफ को अनुपस्थित माना जाएगा।

कस्तूरबा की समीक्षा बैठक में सहायक वित्त एवं लेखाधिकारी, बीईओ सभी वार्डन व लेखाकार व हर कस्तूरबा विद्यालय की एक-एक फुल टाइम टीचर मौजूद रहीं। विभागीय योजनाओं के प्रगति की विद्यालयवार समीक्षा करते हुए बीएसए ने डीबीटी प्रक्रिया के लिए सभी छात्राओं का आधार प्रमाणीकरण व एक सप्ताह के अंदर स्टाइपेंड का भुगतान सुनिश्चित करने का निर्देश वार्डन व लेखाकार को दिया। कहा कि जिन छात्राओं का बैंक खाता आधार से सीडेड नही है, लेखाकार व वार्डन बैंक से तत्काल सम्पर्क कर बैंक खाता को आधार से सीडेड कराएं। गणित विद्यालय के लिए आनलाइन प्रशिक्षण को कस्तूरबा विद्यालय के सभी कम्प्यूटर व इंटरनेट व्यवस्था को दुरुस्त कराने का फरमान जारी किया। आईआईटी गांधीनगर द्वारा संचालित क्यूरिसिटी बॉक्स के माध्यम से छात्राओं को रूचिकर तरीके से विज्ञान विषय का आनलाइन प्रशिक्षण समय से कराने का आदेश दिया। वार्डन को दो टूक में हिदायत दिया कि अगर मेन्यू के हिसाब से छात्राओं को गुणवत्तायुक्त भोजन नहीं मिला तो कार्रवाई तय है। छात्राओं की वास्तविक उपस्थिति के आधार पर ही खाद्यान्न एवं अन्य वस्तुओं का उपभोग कर उसे पंजिका में दर्ज करने का निर्देश दिया। अवकाश को लेकर समीक्षा में बीएसए ने निर्देश दिया कि बिना अवकाश स्वीकृत कोई भी शिक्षिका या कर्मी विद्यालय नहीं से नहीं जाएंगे। अक्सर यह देखने को मिल रहा है कि एक ही विद्यालय में एक ही साथ कई अध्यापिकाएं अवकाश की मांग करती हैं। यह स्थिति ठीक नहीं है। वार्डन को निर्देश दिया कि वह रोटेशन सिस्टम के आधार पर ही नियमानुसार अवकाश की संस्तुति करें। संस्तुति के बाद बीएसए कार्यालय से अवकाश स्वीकृत होगा।

ये भी पढ़े-  छात्रा का अपहरण करना महिलाओं को पड़ा महंगा, केस दर्ज

बीएसए ने सभी लेखाकार को निर्देश दिया कि फर्म से आपूर्ति की गई सामग्री को पंजिका में दर्ज करें। सत्यापन कराने के बाद ही उपभोग कराना सुनिश्चित कराएं। विद्यालय अवस्थापना में भी जो भी कमियां हैं, अनुमति लेकर मरम्मत कराएं।

कस्तूरबा विद्यालय में प्रकाश की व्यवस्था के लिए बीएसए ने सभी वार्डन से दो दिन के अंदर सोलर लाइट लगवाने के लिए प्रस्ताव मांगा। प्रकाश व साफ-सफाई व्यवस्था का समुचित प्रबंध कराने का निर्देश दिया। सभी अध्यापकों को नियमित शिक्षक डायरी भरने व उत्तर पुस्तिकाओं का नियमित मूल्यांकन का आदेश दिया। सभी लेखाकारों को निर्देश दिया कि सभी भुगतान हर माह की पहली तारीख को करा लें। व्यय की सूचना दो तारीख को डीसी बालिका को उपलब्ध कराएं, जिससे संकलित सूचना को पीएमएस पोर्टल पर अपलोड कराई जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: