Strange Forests: जानें दुनिया के सबसे अजीब मगर अनोखे जंगलों के बारें में….

 

किसी समय में पृथ्वी पर बहुत अधिक हिस्सा जंगलों से घिरा हुआ करता था. लेकिन आज इस आधुनिकता के दौर में वनों की कटाई भी लगातार हो रही है. अधिकतर जगहों पर इमारतें ज्यादा और पेड़-पौधे कम नजर आते हैं. यही कारण है कि जंगलों की मौजूदगी अब पहले की तुलना में काफी घट गई है. लेकिन दुनिया में कुछ अजीब और अनोखे जंगल भी हैं. ये जंगल कुछ रोचक बातें जुड़ी हुई हैं. आइए जानें इन जंगलों के बारे में रोचक बातें.

रेड फोरेस्ट

ये जंगल यूक्रेन के चेरनोबिल न्यूक्लियर पावर प्लांट के पास फैला हुआ है. इसके मिट्टी रेड है. 1986 में यहां परमाणु घटना घटित हुई थी. इस जंगल की मिट्टी लगभग 90 प्रतिशत रेडियोएक्टिव है. इस वजह से यहां के पेड़ पौधों का रंग लाल है.

उत्तरी सेंटीनेल द्वीप

ये जंगल अंडमान द्वीप में उत्तरी सेंटीनेल द्वीप पर स्थित है. ये जंगल चारों ओर कोरल रीफ से घिरा हुआ है. इस जगह पर आम लोगों का जाना बैन है. यहां पर सेंटीनेल जनजाति के लोग ही रहते हैं. आम लोगों का यहां जाना सुरक्षित नहीं माना जाता है.

क्रूक्ड फॉरेस्ट

ये पोलैंड का बहुत ही अजीब जंगल माना जाता है. इस जगह पर सैंकड़ों पाइन के पेड़ हैं. इन पेड़ों की खास बात ये है कि ये उत्तरी दिशा में 90 डिग्री पर मुड़े हुए हैं. ऐसा माना जाता है कि इन पेड़ को जर्मन्स ने 1930 में एक खास तकनीक का इस्तेमाल करके लगाया था.

चेस्टनट हील्स

1900 के दशक में अमेरिका के जंगलों में एक बीमारी फैली थी. इस बीमारी का नाम था चेस्टनट ब्लाइट. इस दौरान चेस्टनट के पेड़ लगभग खत्म हो गए थे. इस बीमारी पर बहुत ही मुश्किल से काबू पाया गया था. इसके बाद इन पेड़ों को दूसरी जगहों से लाकर यहां लगाया गया था.

ये भी पढ़े-  लिवर के ठप होने से बनता है कोलेस्ट्रॉल, ये एक्सरसाइज छानकर निकाल देगी गंदा पदार्थ

सी ऑफ ट्रीज

इस जंगल को ओकिघारा फॉरेस्ट के नाम से भी जाना जाता है. ये जंगल जापान में स्थित है. ऐसा कहा जाता है कि इस जंगल में जो जाता है खुदकुशी कर लेता है. यही कारण है कि इस जंगल को सुसाइड फॉरेस्ट के रूप में भी जाना जाता है. साल 2004 में यहां लगभग 104 लोगों ने सुसाइड किया था.

आर्डेनेस

ये जंगल बेल्जियम, लक्जमबर्ग और फ्रांस में बसा हुआ है. इस जंगल में कई युद्ध हुए हैं. इस जगंल को पहले और दूसरे विश्व युद्ध के दौरान जर्मनी ने फ्रांस पर हमला करने के लिए इस्तेमाल किया था.

 

 

 

 

 

 

 

Source link

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: