राजस्थान समाचार: महात्मा गांधी स्कूलों में लॉटरी सिस्टम बंद: अब पहले आओ-पहले पाओ पर मिल रहे एडमिशन

एजाज अहमद उस्मानी की रिपोर्ट-

मेड़ता: महात्मा गांधी राजकीय अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में लॉटरी सिस्टम बंद कर दिया गया है और अब खाली सीटों पर पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर बच्चों को प्रवेश दिया जा रहा है। यह बदलाव तब आया है जब अधिकतर स्कूलों में सीटें खाली पड़ी हैं।

लॉटरी सिस्टम की आवश्यकता तब पड़ती है जब सीटों से अधिक आवेदन प्राप्त होते हैं। मगर, मेड़ता ब्लॉक की आठ में से अधिकांश स्कूलों में आधे से ज्यादा सीटें खाली पड़ी हैं। इससे यह स्पष्ट होता है कि इन स्कूलों में बच्चों की संख्या अपेक्षित नहीं है, जिसके कारण अब लॉटरी सिस्टम को हटाकर पहले आओ-पहले पाओ की नीति अपनाई गई है।

मेड़ता क्षेत्र के मेड़ता रोड में दो, रेण, डांगावास, गोटन, मोकलपुर, टालनपुर और आकेली-ए गांवों में सरकार ने एक-एक महात्मा गांधी राजकीय अंग्रेजी माध्यम स्कूलों की शुरुआत की थी। इन स्कूलों में कक्षा 1 से 5वीं तक 40 और कक्षा 6 से 8वीं तक 35-35 सीटें हैं। हालांकि, इनमें से गोटन, रेण और -ए बालिका स्कूलों में नामांकन की संख्या ठीक है क्योंकि यहां पहले से स्कूल संचालित थी। लेकिन अन्य स्कूलों में केवल नाममात्र के बच्चे

लॉटरी सिस्टम से प्रवेश देने की प्रक्रिया 18 जून को पूरी हो गई थी, लेकिन अधिकांश स्कूलों में सीटें खाली रहने के कारण प्रवेश प्रक्रिया अभी भी जारी है। अब इन अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में पहले आओ-पहले पाओ की तर्ज पर बच्चों को प्रवेश दिया जा रहा है।

शिक्षा विभाग ने इन अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में बच्चों के प्रवेश के लिए प्रचार-प्रसार की मुहिम चलाई है। एबीईओ श्रीराम खोजा ने बताया कि विभाग अभिभावकों को जागरूक करने के प्रयास कर रहा है ताकि वे अपने बच्चों को इन सरकारी अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में प्रवेश दिला सकें। शिक्षा विभाग द्वारा यह कदम इसलिए उठाया गया है ताकि अधिक से अधिक बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मिल सके।

महात्मा गांधी राजकीय अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में लॉटरी सिस्टम के बंद होने के बाद अब पहले आओ-पहले पाओ की तर्ज पर बच्चों को प्रवेश दिया जा रहा है। शिक्षा विभाग द्वारा चलाए जा रहे प्रचार-प्रसार के प्रयासों से यह उम्मीद है कि जल्द ही इन स्कूलों की सभी सीटें भर जाएंगी और अधिक बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का लाभ मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!