Pradosh Vrat 2023: आज है साल का पहला प्रदोष व्रत, जानें किस पूजा से बरसेगी शिव कृपा

Budh Pradosh Vrat 2023: सनातन परंपरा में औढरदानी कहलाने वाले भगवान शिव की पूजा के लिए प्रत्येक मास में पड़ने वाली त्रयोदशी का बहुत महत्व है क्याेंकि इसी दिन महादेव की विशेष पूजा और प्रदोष व्रत रखा जाता है. हिंदू धर्म में प्रदोष व्रत सभी दु:खों को दूर करके जीवन के सभी सुखों को देने वाला माना गया है. साल 2023 में शिव कृपा बरसाने वाला पहला प्रदोष व्रत 04 जनवरी 2023 को पड़ेगा. आइए जानते हैं कि बुध प्रदोष व्रत के दिन किस समय शिव संग माता पार्वती की पूजा करने पर साधक की सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी.

बुध प्रदोष की पूजा का शुभ मुहूर्त

जिस पंचांग की मदद से किसी भी कार्य और देवी-देवताओं की पूजा का शुभ समय जाना जाता है, उसके अनुसार साल का पहला प्रदोष व्रत 04 जनवरी 2023 को पड़ेगा. शिव पूजा के लिए उत्तम माने जाने वाली त्रयोदशी तिथि 03 जनवरी को रात्रि 10:01 बजे से प्रारंभ होकर अगले दिन यानि 04 जनवरी 2023 को पूरे दिन रहेगी. बुधवार के दिन पड़ने के कारण यह बुध प्रदोष व्रत कहा जाएगा, जिसकी पूजा के लिए सबसे ज्यादा शुभ मुहूर्त यानि प्रदोष काल सायंकाल 05:37 से 08:21 तक रहेगा.

बुध प्रदोष व्रत की पूजा विधि

बुध प्रदोष व्रत को करने के लिए साधक को इस दिन सूर्योदय से पहले उठकर स्नान-ध्यान करना चाहिए. इसके बाद भगवान सूर्य को जल देने के बाद सबसे पहले गणपति की पूजा दूर्वा चढ़ाकर करें और उसके बाद भगवान शिव और माता की पूजा करनी चाहिए. इसके बाद पूरे दिन शिव मंत्र का मन में जपते हुए अन्य कार्य करते रहना चाहिए. शाम होने से पहले एक बार फिर साधक को यदि संभव हो स्नान करना चाहिए अन्यथा स्वच्छ वस्त्र पहनकर भगवान शिव का पंचोपचार पूजन और प्रदोष व्रत की कथा कहनी चाहिए. पूजा के अंत में महादेव की आरती करें और अधिक से अधिक लोगों को प्रसाद बांटकर स्वयं भी प्रसाद ग्रहण करें.

ये भी पढ़े-  गुजरात के इन भूतिया स्‍थानों पर दिन में भी जाने से डरते हैं लोग

बुध प्रदोष व्रत का धार्मिक महत्व

प्रत्येक मास के कृष्ण पक्ष और शुक्लपक्ष की त्रयोदशी तिथि से जुड़ा प्रदोष व्रत जिस दिन पड़ता है, उसे उसी नाम से जाना जाता है. चूंकि साल का पहला प्रदोष व्रत बुधवार के दिन पड़ रहा है तो इसे बुध प्रदोष के नाम से जाना जाएगा. जिसे विधि-विधान से करने पर व्यक्ति को करियर-कारोबार आदि में विशेष सफलता मिलती है. इस व्रत को करने पर साधक को अपने जीवन में मनचाही सफलता प्राप्त होगी है और शिव कृपा से उसका घर हमेशा धन-धान्य से भरा रहता है.

(यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं, इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)

 

 

 

 

 

 

Source link

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: