Pradosh Vrat 2023: किस गलती के कारण टूट जाता है प्रदोष व्रत, जानें इससे जुड़े नियम और उपाय

 

Pradosh Vrat Kaise Rakhen: सनातन परंपरा में किसी भी देवता का आशीर्वाद अथवा ग्रह विशेष की शुभता को पाने के लिए व्रत को उत्तम उपाय माना गया है. मान्यता है कि यदि किसी व्रत को पूरे विधि-विधान और श्रद्धा-भक्ति के साथ किया जाए तो व्यक्ति के जीवन से जुड़े सभी कष्ट दूर हो जाते हैं और उस पर ईश्वरीय कृपा बरसती है. हिंदू धर्म में कल्याण के देवता माने जाने वाले भगवान शिव की कृपा बरसाने वाला साल का पहला प्रदोष व्रत रखा जा रहा है, ऐसे में उसे सफल बनाने के लिए आपको इससे जुड़े सभी जरूरी नियम जरूर मालूम होने चाहिए. आइए प्रदोष व्रत के नियम और इसके टूट जाने पर किए जाने वाले उपाय को जानते हैं.

इन गलतियों के कारण टूट जाता है प्रदोष व्रत

  1. प्रदोष व्रत को करने वाले व्यक्ति को कभी भी इस तिथि पर दिन में सोना नहीं चाहिए. मान्यता है कि किसी भी देवता के लिए सुनिश्चित तिथि दिन में सोने से व्यक्ति को उस व्रत का पुण्य फल नहीं प्राप्त होता है.
  2. प्रदोष व्रत करने वाले व्यक्त्ति को व्रत करने से पहले इसकी संख्या का संकल्प करना चाहिए और उसे पूरा भी करना चाहिए. यदि किसी कारण से कोई प्रदोष व्रत छूट जाए तो
  3. आगे आने वाले प्रदोष व्रत को करके उस संख्या को पूरा जरूर करना चाहिए, अन्यथा संकल्प से अधूरे व्रत के कारण व्यक्ति को उसके शुभ फल नहीं मिलते हैं.
  4. प्रदोष व्रत वाले दिन व्यक्ति को भूलकर भी किसी पर गुस्सा नहीं करना चाहिए. साथ ही साथ प्रदोष व्रत के दिन साधक को झूठ बोलने, चोरी करने, ईर्ष्या करने आदि से बचना चाहिए. कुल मिलाकर उसे प्रदोष व्रत में सत्य, क्षमा, दया, दान, शौच, इन्द्रिय-संयम और ईशपूजा जैसे नियम का पूरा पालन करना चाहिए.
  5. व्रत वाले दिन खाने-पीने और पूजा में प्रयोग की जाने वाली पूजा वस्तुओं का नियम होता है, इसे भूलकर भी नहीं तोड़ना चाहिए. जैसे प्रदोष व्रत में लाल मिर्च, चावल, सादा नमक आदि का सेवन मना है.
ये भी पढ़े-  गुजरात के इन भूतिया स्‍थानों पर दिन में भी जाने से डरते हैं लोग

जब गलती से टूट जाए प्रदोष व्रत

  1. यदि किसी व्यक्ति अनजाने में व्रत टूट जाए तो उसे बजाय धर्म संकट में पड़ने के उसे सबसे पहले इसके लिए देवों के देव महादेव के सामने पश्चाताप करते हुए इस भूल की माफी मांगनी चाहिए. साथ ही साथ जितने भी व्रत खंडित हो जाएं उसकी भरपाई आने वाले समय में पड़ने वाले प्रदोष व्रत को करके करना चाहिए.
  2. जिस व्यक्ति का प्रदोष व्रत टूट जाए उसे उस दोष से मुक्ति पाने के लिए उस दिन रुद्राक्ष की माला से शिव मंत्र का अधिक से अधिक जाप करना चाहिए. मान्यता है कि इस उपाय को करने पर व्रत टूटने का पाप नहीं लगता है.
  3. प्रदोष व्रत के टूटने पर उसके दोष से बचने के लिए उस दिन किसी जरूरतमंद व्यक्ति या फिर मंदिर के पुजारी को अपनी क्षमता के अनुसार दान करना चाहिए.

(यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं, इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)

Source link

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: