गुजरात के इन भूतिया स्‍थानों पर दिन में भी जाने से डरते हैं लोग

यूं तो गुजरात पर्यटकों के लिए प्रमुख आकर्षण का केंद्र माना जाता है और यहां के मंदिरों का धार्मिक महत्‍व बहुत ही खास माना गया है। लेकिन यहां पर कुछ ऐसी डरावनी जगहें भी हैं जहां जाने से लोग दिन में भी डरते हैं। कहा जाता है कि इन स्‍थानों पर कभी बहुत ही डरावनी घटनाएं आ चुकी हैं और इन घटनाओं का प्रभाव आज भी यहां दिखता है। आइए जानते हैं कौन सी हैं ये डरावनी जगहें।

सिग्नेचर फार्म, अहमदाबाद

साबरमती नदी के किनारे स्थित अहमदाबाद शहर को किसी जमाने में ‘कर्णावती’ के नाम से जाना जाता था। इस शहर की गिनती भारत के चुनिंदा विकसित शहरों में की जाती है। यहां का साबरमती आश्रम, जामा मस्जिद, सरखेज रोजा, तीन दरवाजा, नल सरोवर पक्षी विहार आदि पर्यटकों को लुभाती हैं। इनके अलावा भी अहमदाबाद शहर में कुछ ऐसी जगहें हैं, जहां कोई गलती से भी जाना नहीं चाहता है। इनमें से एक है सिग्नेचर फार्म। अहमदाबाद के इस जगह पर अब वही लोग आते हैं, जिनमें जिगरा है। स्थानीय लोगों का कहना है कि यहां अजीब घटनाएं होती रहती हैं। यह स्थान ज्यादातर अपनी आसामान्य घटनाओं की वजह से चर्चा में रहता है। यह जगह तब और फेमस हुई जब यहां कुछ युवा लड़कों का ग्रुप शाम को घूमने के लिए आया था, माना जाता है कि यहां किसी अदृश्य शक्ति ने उन्हें अपना शिकार बना लिया था। उसके बाद से लोग यहां जाने से भी डरते हैं। लोगों का मानना है कि यहां से शाम के समय अजीब आवाजें आती हैं।

ये भी पढ़े-  मेहनत पर भरोसा करने वाले अपना गुडलक खुद बनाते हैं, पढ़ें परिश्रम से जुड़े 5 प्रेरक वाक्य

चांदखेड़ा में भूतिया पेड़, अहमदाबाद

चांदखेड़ा उत्तर पश्चिमी अहमदाबाद में एक अच्छी तरह से विकसित क्षेत्र है। यह इलाका साबरमती नदी के पश्चिम में है। चांदखेड़ा की गलियों में एक पुराना पेड़ है। मान्यता है कि इस पर भूत का साया मंडराता रहता है। अगर कोई रात के समय इसके आसपास भी आता है तो वह आत्मा उस व्यक्ति के सपने में आने लगती है और इस तरह इंसान पागल हो जाता है। देखने में भी पेड़ काफी डरावना है।

अहमदाबाद-राजकोट रोड

आप सभी ने बागडोरा के बारे में तो सुना होगा, जो राष्ट्रीय राजमार्ग 47 पर एक छोटा सा शहर है। आप जब भी अहमदाबाद से राजकोट जाएंगे, तब आपको यह जगह दिखाई देगा। कहते हैं कि इसी हाइवे की सड़क यहां होने वाली कई दुर्घटनाओं के कारण खतरनाक है। जो लोग रात के समय के आसपास ड्राइव करते हैं, उनका कहना है कि यहां अजीबोगरीब आवाजें सुनाई देती हैं। ये आवाजें वाहन चालकों का ध्यान भटकाती हैं और इस तरह यहां कई दुर्घटनाएं होती हैं। उनका कहना है कि यहां सड़क पर रहस्मयी महिलाओं और भिखारियों पर ध्यान न दें।

द डुमस बीच, सूरत

गुजरात के डुमस बीच के बारे में कौन नहीं जानता है। यह समुद्र तट अरब सागर के किनारे है। यह सूरत शहर के दक्षिण क्षेत्र में है, जो घूमने का एक अच्छा विकल्प है। यह सूरत एयरपोर्ट से केवल 3 से 4 किलोमीटर की दूरी पर है। यहां की काली रेत का रहस्य और भूतिया कहानी पूरे शहर में फेमस हैं। माना जाता है कि समुद्र तट एक हिंदू कब्रिस्तान था, जहां भूतिया आत्माएं भटकती रहती हैं। शाम ढलते ही यहां कोई भी जाने की हिम्मत नहीं करता, कहा जाता है कि जो भी इस बीच पर जाता है, वह गायब हो जाता है।

ये भी पढ़े-  Chanakya Niti: चाणक्य के अनुसार बहुत भाग्यशाली मानी जाती हैं इन आदतों वाली स्त्रियां

अवध महल, राजकोट

गुजरात के राजकोट स्थित अवध महल एक प्राचीन और एक बड़ा महल है। स्थानीय लोगों का मानना है कि यहां एक लड़की के साथ गलत काम हुआ था और उसके बाद फिर उसे जान से मार दिया था। जान से मारने के बाद उसे यहीं दफना दिया गया था। इस घटना के बाद ऐसा कहा जाता है कि उस लड़की की आत्मा यही घूमती है। शाम होते ही हवेली से चीखने की आवाजें आती हैं।

(नोट : इस लेख में बताई गई किसी भी जानकारी में निहित सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना के तहत ही लें।)

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Source link

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: