रेसिडेंट डॉक्टरों की हड़ताल खत्म, दो दिनों में 1432 पदों पर नियुक्ति करेगी महाराष्ट्र सरकार

महाराष्ट्र के 7 हजार से ज्यादा रेजिडेंट डॉक्टरों ने अपनी अलग-अलग मांगों को लेकर 2 जनवरी से अनिश्चितकाल के लिए हड़ताल की था. लेकिन एक दिन बाद ही यानी 3 जनवरी को डॉक्टरों ने अपनी हड़ताल खत्म कर दी. मेडिकल एजूकेशन मिनिस्टर गिरिश महाजन के साथ हुई बैठक के बाद डॉक्टरों की हड़ताल खत्म किए जाने का ऐलान किया गया. यह हड़ताल महाराष्ट्र एसोसिएशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स (मार्ड) की ओर से किया गया था. मंत्री गिरिश महाजन ने यह भी ऐलान किया कि दो दिनों के अंदर 1 हजार 432 पदों पर भर्ती की प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी.

महाराष्ट्र राज्य निवासी डॉक्टरों के संगठन के साथ कामयाब बातचीत के बाद मंत्री गिरिश महाजन ने हडताल खत्म होने की जानकारी देते हुए कहा कि सीनियर डॉक्टरों की 1432 पदों पर नियुक्ति की मांग थी, जो मान ली गई है. दो से तीन दिनों में इन सभी पदों पर नियुक्तियां पूरी कर ली जाएंगी. बाकी मांगों को भी जल्दी ही पूरा किया जाएगा.

केंद्र से भी मदद की अपील, हॉस्टल की परेशानियां को लेकर राज्य सरकार गंभीर

इस मौके पर मंत्री महाजन ने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से 500 करोड़ रुपयों की मांग की जा रही है. कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी के जरिए भी निजी संस्थानों और कंपनियों से होस्टल तैयार करने के लिए मदद करने की अपील की गई है. जल्दी ही मेडिकल स्टूडेंट के हॉस्टल की सुविधाओं की मांग पूरी की जाएगी. साथ ही मेडिकल एजूकेशन मंत्री ने यह भी कहा महापालिकाओं के सवालों पर आयुक्तों से चर्चा की गई है. मंत्री महाजन ने कहा कि बैठक काफी सकारात्मक माहौल में संपन्न हुई.

ये भी पढ़े-  प्रधानमंत्री मोदी ने 71000 युवाओं को दिए ऑफर लेटर, आइये जाने किसको कौन सी जॉब मिली?

डॉक्टरों से जुड़ी ये थी मांगें और सवाल, आश्वासनों के बाद टूटी हड़ताल

राज्य के सीनियर रेसिडेंट डॉक्टरों की मांग थी कि 1 हजार 432 पदों के लिए सरकार तुरंत नियुक्ति के आदेश दे. साथ ही सरकारी अस्पतालों और मेडिकल कॉलेजों में नए हॉस्टल बनाए जाएं. असिस्टेंड और असोसिएट प्रोफेसरों के खाली पदों को तुरंत भरा जाए. महंगाई भत्ता तुरंत दिया जाए और रेसिडेंट डॉक्टरों के लिए समान वेतन लागू किया जाए. इन्हीं मांगो को पूरा करवाने के लिए हड़ताल की गई थी. लेकिन महाराष्ट्र सरकार ने फिलहाल बातचीत से मामला सुलझा लिया है.

 

 

 

 

 

 

Source link

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: