राजोरी: हमले में आतंकी तालिब, पाकिस्तान में बैठे लश्कर कमांडर कासिम और रहमान का हाथ होने का शक

राजोरी में हिंदुओं के घरों पर आतंकी हमला दहशतगर्द तालिब हुसैन के गुर्गों की करतूत हो सकती है, जिन्होंने पाकिस्तान में बैठे लश्कर के आतंकी मोहम्मद कासिम और जिया उर रहमान के निर्देश पर इस हमले को अंजाम दिया। यह दोनों मूल रूप से कश्मीर के रहने वाले हैं। ऐसा भी संभव है कि टारगेट किलिंग करने वाले आतंकी स्थानीय हैं, जो पिछले 7 महीनों से पीर पंजाल के जंगलों में मौजूद हैं।

दरअसल, जुलाई 2022 में पुलिस ने रियासी के माहौर में राजोरी के कोटरंका दराज के रहने वाले तालिब हुसैन और पुलवामा के रहने वाले फैजल अहमद को हथियारों के साथ गिरफ्तार किया था। तब पुलिस ने यह जानकारी सांझा की थी कि तालिब हुसैन पाकिस्तान में बैठे मोहम्मद कासिम और जिया उर रहमान के इशारों पर काम कर रहा था। तालिब के पास कश्मीर के 4 आतंकियों का दल पहुंचा था, जिसको पीर पंजाल में टारगेट किलिंग का जिम्मा दिया गया था। इनमें एक आतंकी फैजल था।

एडीजीपी जम्मू ने जानकारी दी थी कि बचे हुए तीन आतंकी अब भी पीर पंजाल में सक्रिय हैं। यदि राजोरी में आतंकी हमले को अंजाम देने वाले यही आतंकी निकलते हैं तो यह पुलिस की बड़ी लापरवाही और चूक मानी जाएगी, क्योंकि आतंकियों की जानकारी होने के बावजूद भी यह अब तक पकड़े नहीं गए हैं। एक सवाल और भी है कि यदि ये वही आतंकी न भी हुए तो वो तीनों आतंकी कहां हैं, जो पीर पंजाल में आए तो सही थे, लेकिन मिले ही नहीं।

जेल में बंद तालिब हुसैन, फैजल से पूछताछ

ये भी पढ़े-  कठुआ में मिनीबस सड़क से फिसलकर खाई में गिरी, महिला समेत 5 की दर्दनाक मौत

सूत्रों का कहना है कि राजोरी में टारगेट किलिंग में तालिब हुसैन का हाथ हो सकता है। तालिब इस समय जेल में है, जिसके खिलाफ अभी कुछ ही दिन पहले एसआईए ने चार्जशीट पेश की है। चार्जशीट पेश होने के दो दिन बाद ही यह हमला हो गया। बताया जा रहा है कि पुलिस ने आतंकी तालिब हुसैन से भी पूछताछ की है, जिसे राजोरी में हमला करने वाले आतंकियों की जानकारी हो सकती है। यह भी बताया जा रहा है कि जम्मू के खटीकां तालाब से गिरफ्तार आतंकी फैजल मुनीर से भी पूछताछ की जा रही है।

इसलिए हो रहा शक

बता दें कि तालिब हुसैन राजोरी के कोटरंका दराज गांव का रहने वाला है। तालिब हुसैन ड्रोन से हथियारों की तस्करी के पांच मामलों में संलिप्त है। तालिब ने कश्मीर से राजोरी पहुंचे दो आतंकी दलों को भी रिसीव किया था। इन दोनों दलों को तालिब का सहयोगी मोहम्मद शब्बीर निवासी दराज कोटरंका राजोरी लाया था। तरगैन हत्या मामले, कोटरंका ग्रेनेड धमाका, रंजीत सिंह पर गोली चलाने, अनस झुग्गी ग्रेेनेड हमला और शाहपुर ग्रेनेड हमला तालिब ने किया था।

 

 

 

 

Source link

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: