कैसे बनता है BPL राशन कार्ड, कितनी होती है इनकम? जानिए अपने हर सवाल का जवाब

BPL Ration Card Negligence : देश के हर राज्यों में गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले लोग बीपीएल राशन कार्ड के जरिए सरकार द्वारा दिए जा रहे मुफ्त राशन का लाभ ले रहे हैं. लेकिन हरियाणा राज्य के रोहतक जिले में अनेक लोग इन दिनों बीपीएल राशन कार्ड कटने से परेशान हैं. बीपीएल राशन कार्ड कटने की बड़ी वजह पीपीपी (परिवार पहचान पत्र) की गलतियां हैं. जिन बच्चों की उम्र 4 से 5 साल है. उनकी पीपीपी में 15-15 हजार रुपए की इनकम और साथ ही गृहणियों की भी इनकम दिखाकर कुल आय को 1.80 लाख रुपए से ज्यादा बताकर बीपीएल कार्ड काट दिए गए.

बता दें कि जिस तरह से बीपीएल कार्ड काटे हैं. उनमें भी सरकार के साथ-साथ उन लोगों के प्रति क्रोध है. जिन्होंने ये परिवार पहचान पत्र तैयार किए हैं. ऐसे सैंकड़ों लोग है जाे सुबह से लेकर शाम तक बीडीपीओ कार्यालय से लेकर सीएससी सेंटरों के चक्कर काट रहे हैं. फिर भी उनकी किसी भी समस्याओं का हल नहीं हो पा रहा है. लोगों का कहना है कि एक-एक माह पहले उन्होंने इसके लिए रिक्वेस्ट डाली हुई थी, लेकिन अभी तक भी कोई समाधान नहीं हो पाया है.

गलती छुपाने के लिए लापरवाही कर रहे अफसर

सूत्रों के मुताबिक, अभी तक कितने लोगों के बीपीएल कार्ड काटे गए हैं. इसका पूरा डाटा अभी तक खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के पास भी उपलब्ध नहीं है. इससे साफ जाहिर हो रहा है कि अधिकारियों ने अपनी गलती छुपाने के लिए बीपीएल कार्ड काटे है. लाभार्थियों ने जो आया दर्शाई है. अधिकारियों ने उसको ठीक से न दर्शाकर बीपीएल कार्ड काटे है.

ये भी पढ़े-  बेटियों की कस्टडी पाने की खातिर पिता ने चेंज करवा लिया अपना जेंडर

अधिकारियों ने दिया ये बयान

इस मामले में बड़े अधिकारियों का कहना है कि डाटा रोजाना अपडेट हो रहा है. जिले में पहले कुल 1 लाख 22 हजार लोगों के राशन कार्ड बने थे. जो अब बढ़कर 1.40 लाख हो गए हैं. जिले में कितने लोगों के बीपीएल कार्ड कटे हैं और कितनों के नए बीपीएल कार्ड बने हैं. ये डाटा अपडेट नहीं है. इसमें रोजाना बदलाव हो रहा है. पीपीपी के आधार पर बीपीएल कार्ड काटे जा रहे हैं और नए बनाए जा रहे हैं. जिले में पहले कुल 1.22 लाख राशन कार्ड थे जो अब बढ़कर 1.40 लाख हो गए हैं.

क्या होता है बीपीएल राशन कार्ड

भारत सरकार और सभी राज्य सरकारें देश में गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले नागरिकों के जीवन स्तर को सुधारने के लिए कई सरकारी योजनाओं का आयोजन करती है. देश के हर राज्य में निवास करने वाले नागरिकों के लिए खाद्य आपूर्ति विभाग (Department of Food Supplies) द्वारा पात्रता के आधार पर सार्वजनिक वितरण प्रणाली (Public Distribution System) के अंतर्गत हितग्राहियों को बीपीएल राशन कार्ड (BPL Ration Card) जारी किया जाता है. देश में जितने भी राज्य हैं, उन सभी राज्य में गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों को खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के द्वारा बीपीएल राशन कार्ड (BPL Ration Card) उपलब्ध कराया जाता है. बीपीएल राशन कार्ड केवल उन नागरिकों को ही प्रदान किया जाता है जिनकी सालाना आय मात्र 20000 रुपए होती है.

आवेदन के लिए जरूरी जानकारी

  • अगर आप गरीबी रेखा से नीचे आते हैं तो ही आप बीपीएल राशन कार्ड बनवाने के लिए आवेदन कर सकते हैं.
  • बीपीएल राशन कार्ड केवल उन नागरिकों को ही प्रदान किया जाएगा, जिनकी सालाना आय मात्र 20000 रुपए होगी.
  • बीपीएल कार्ड बनवाने के लिए आवेदक की आयु 18 वर्ष या उससे अधिक होनी चाहिए.
  • बीपीएल राशन कार्ड के लिए आवेदन करने वाला आवेदनकर्ता भारत का निवासी होना चाहिए.
  • बीपीएल कार्ड बनवाने के आपका नाम बीपीएल राशन कार्ड लिस्ट में शामिल होना जरूरी है.
  • बीपीएल राशन कार्ड बनवाने के लिए हितग्राहियों पहले से किसी अन्य राज्य का राशन कार्ड नहीं होना चाहिए.
ये भी पढ़े-  अब नहीं लगाने होंगे KYC के लिए बैंकों के चक्कर, घर बैठे मिलेगी ये सुविधा

ये दस्तावेज हैं आवश्यक

  • परिवार के मुखिया एवं परिवार के सभी सदस्यों का आधार कार्ड
  • पते के प्रमाण के लिए बिजली बिल, पानी का बिल, ड्राइविंग लाइसेंस, निवास प्रमाण पत्र आदि.
  • आवेदक का श्रमिक कार्ड या जॉब कार्ड
  • ग्राम पंचायत या नगर पंचायत से अनुमोदन
  • तीन पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • बैंक पासबुक की फोटो कॉपी
  • बीपीएल सर्वे क्रमांक
  • मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी
  • आपको खाद्य एवं रसद विभाग के अधिकारी वेबसाइट या फिर कार्यालय में जाकर बीपीएल राशन कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं.

मिलते हैं ये लाभ

बीपीएल कार्ड का उपयोग करके लाभार्थी अन्य राशन कार्ड की तुलना कम सब्सिडी रेट (Low subsidy rate) पर राशन प्राप्त कर सकता है. बीपीएल राशन कार्ड के द्वारा लाभार्थी आवास योजना, छात्रवृत्ति योजना जैसी कई सरकारी योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं. सभी बीपीएल धारक सरकारी बैंकों से अपने निजी कार्य के लिए बहुत ही कम ब्याज दरों (Interest rates) पर लोन प्राप्त कर सकते हैं. इसके उपयोग से लाभार्थी सरकारी अस्पतालों में कम खर्च पर अपना इलाज करा सकता है. सरकारी पदों पर बीपीएल परिवारों के लोग आरक्षण (Reservations) प्राप्त कर सकते है.

 

 

 

 

 

 

Source link

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: