Haryana Breaking News: मेडिकल छात्राओं ने विधायक दल से सुनाई आपबीती- ओटी मास्टर पर लगाए गंभीर आरोप

कुश्ती खिलाड़ियों के बाद अब हरियाणा के करनाल में कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज की छात्राओं (बीएससी ओटी टेक्नीशियन के 2022-23 बैच) ने अपने ओटी मास्टर पवन कुमार पर यौन शोषण और मानसिक प्रताड़ना के गंभीर आरोप लगाए हैं। इस संबंध में उन्होंने कॉलेज कैंपस में निरीक्षण करने पहुंची विधायक दल की कमेटी को सात पेजों की लिखित शिकायत सौंपी और रोते हुए आपबीती सुनाई। उन्होंने इस बाबत मुख्यमंत्री को भी ई-मेल से शिकायत प्रेषित की है।

छात्राओं ने सात पेज की चिट्ठी में आरोप लगाया है कि ओटी मास्टर उनका ब्रेन वॉश करता है। वह कहता है कि तुम्हारा यहां मेरे अलावा कोई नहीं है। तुम्हारे मां बाप भी नहीं चाहते कि तुम्हारा भला हो। सिर्फ मेरे साथ हर टाइप की बातें शेयर करनी है।

ओटी मास्टर कहता है कि बंद गले के कपड़े अच्छे नहीं लगते ऐसे कपड़े डालो, जिनमें ब्यूटी बोन दिखे। यही नहीं लड़कियों को अकेले में बोलता था कि आप कातिल लग रही हो, आप बहुत सुंदर लग रही हो। विद्यार्थियों को बुलाकर प्रेम-रस और अंधविश्वासी, ढोंगी किताबें पढ़ाकर पथ भष्ट करता है और साइंस की थियोरी को गलत बताता है।

छात्राओं के सामने डबल मिनिंग बातें कर जोक सुनाता रहता है। अकेले में लड़कियों के साथ खुलने की कोशिश करता है और बाहर यह दिखाता है कि मुझे दुनिया से कोई मतलब नहीं है। छात्राओं ने बताया कि ओटी मास्टर उन्हें कहता है कि एचओडी और डायरेक्टर सब उसके खास हैं। मेरा कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता।

इधर, शिकायत मिलने पर तुरंत विधायकों की कमेटी हरकत में आई। कमेटी की अध्यक्ष सीमा त्रिखा ने छात्राओं से अलग से बातचीत भी की। साथ ही संस्थान के निदेशक से भी जवाब मांगा। करीब आधे घंटे तक मुख्य दौरे से अलग इस विषय पर बैठक चली, जिसमें अध्यक्ष ने मेडिकल कॉलेज की सेक्सुअल हसमेंट कमेटी को ही मामले की जांच करने का जिम्मा सौंपा। 15 दिन में ये कमेटी अपनी रिपोर्ट अध्यक्ष को सौंपेगी। साथ ही जांच प्रभावित न हो, इसके लिए आरोपी ओटी मास्टर को 30 दिन की छुट्टी पर भी भेजा गया है। 

ये भी पढ़े-  कठुआ में मिनीबस सड़क से फिसलकर खाई में गिरी, महिला समेत 5 की दर्दनाक मौत

सीआर (क्लास रिप्रेजेंटेटिव) के साथ अकेले में अश्लील और असामाजिक बातें करता है, जैसे बच्चों के साथ रहकर कपल जल्दी बूढ़े हो जाते हैं लेकिन बच्चों से दूर रहते हैं तो कपल जवान रहते हैं। मैने भी नसबंदी करवा ली है।

पीजीआई चंडीगढ़ में नौकरी लगवाने का दिया लालच

शिकायत में आरोप है कि ओटी मास्टर ने बच्चों को लालच दिया कि जो बच्चा उसे विद्यार्थियों की सभी पर्सनल बातें बताएगा उसे मैं सीआर बनाऊंगा और फिर सीआर को पीजीआईएमईआर चंडीगढ़ में फर्जी तरीके से नौकरी लगाऊंगा और प्रैक्टिस में भी सीआर की हेल्प की जाएगी। आरोप है कि बिना किसी वोटिंग व एकेडमिक को बेस मानकर अपितु सिर्फ शारीरिक संबंध के बेस पर दो महिला सीआर गलत तरीके से घोषित कर दिए। ओटी मास्टर बच्चों की पर्सनल बातें सीआर के माध्यम से जानकर उन्हें ब्लैकमेल करता है और टोंट मारकर उन्हें मेंटल स्ट्रेस देता है। सीआर पर भी दबाव बनाया जाता है कि वह अपनी पर्सनल बातें उसके साथ शेयर करें और दबाव डालकर सीआर को भी अपनी प्राइवेट बातें बताता है।

घंटों अपने पास बैठाने का भी लगाया आरोप 

छात्राओं ने बताया कि पूरे बैच की ओटी में पोस्टिंग लगाकर दोनों सीआर को अपने ऑफिस में काम करने के बहाने ओटी मास्टर बुला लेता है और पांच मिनट के काम के लिए तीन-चार घंटे तक बैठाकर रखता है। सीआर को ओटी मास्टर के द्वारा प्रेशराइज किया जाता है कि ऑफिस की बातें किसी से भी शेयर नहीं करनी है। यहां तक की अपने माता-पिता से भी नहीं।

महिला एचओडी पर भी उठे सवाल

ये भी पढ़े-  UP News Today Live: उत्तर प्रदेश ब्रेकिंग न्यूज़, पढ़ें 3 जनवरी के मुख्य और ताजा समाचार

छात्राओं ने बताया कि बीएससी ओटी मास्टर और विद्यार्थी एनेस्थिसिया विभाग के अंदर आते हैं। यहां पर एचओडी महिला डॉक्टर ने अपना सारा कार्यभार क्लास-तीन ओटी मास्टर पर अंधा विश्वास करके सौंप रखा है। इसका हवाला देकर ओटी मास्टर बच्चों को ब्लैकमेल करता है कि वह उनकी शिकायत कर कॉलेज से उन्हें निकलवा सकता है। वहीं एचओडी ओटी मास्टर के कहने पर खाली कागज पर भी हस्ताक्षर कर देती हैं, जिससे उसे बढ़ावा मिल रहा है।

सीआर को दिया वृंदावन टूर का ऑफर

ओटी मास्टर ने दोनों सीआर को अपने साथ वृंदावन के टूर का ऑफर दिया जो 22 से 26 जनवरी 2023 तक जाना है और फर्जी तरीके से हाजिरी लगाने का भी वादा किया, जिससे बाद में यह दर्शाया जा सके कि दोनों सीआर ओटी में हाजिर थीं। सीआर की ओर से मना करने पर उन्हें मानसिक रूप से प्रताड़ित किया गया और दबाव बनाया गया कि आपको सीआर पद से हटा दिया जाएगा। इस बात पर प्रथम सीआर को पद से हटा दिया गया और हटाने के बाद सब बच्चों को सीआर के खिलाफ भड़काया भी गया, जिसके बाद अब सीआर की तबीयत खराब हो चुकी है।

विधायक दल लेगा रिपोर्ट पर निर्णय 

कॉलेज की सेक्सुअल हसमेंट कमेटी को मामले की जांच करने का जिम्मा सौंपा गया है। रिपोर्ट के बाद विधायक दल इस पर निर्णय लेगा। अगर ओटी मास्टर पर आरोप सही निकले तो उस पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। मुख्यमंत्री के पास भी मामले को लेकर कमेटी जाएगी, ताकि निष्पक्ष जांच हो। – सीमा त्रिखा, अध्यक्ष, विधायक दल कमेटी। 

ये भी पढ़े-  सुप्रीमकोर्ट के इनकार से आजम खान को लगा झटका, मामला ट्रांसफर करने की याचिका खारिज

मामले की जांच विधानसभा कमेटी की ओर से संस्थान की सेक्सुअल हसमेंट कमेटी को सौंपी गई है। इसकी जांच कमेटी ही करेगी। इस मामले में हम कुछ नहीं कह सकते। छात्राओं की ओर से लगाए गए आरोप गंभीर हैं। उसकी निष्पक्ष जांच होगी। -डॉ. जगदीश दुरेजा, निदेशक, कल्पना चावला राजकीय मेडिकल कॉलेज। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: